क्या है क्रिप्टोकरेंसी और उनके प्रकार | What is Cryptocurrency in Hindi

तो आखिर क्या है क्रिप्टोकरेंसी और हर कोई इसकी चर्चा क्यों कर रहा है क्या इसमें सच में फ्यूचर है तो आइए दोस्तों आज हम आपके सारे डाउट क्लियर कर देंगे और आपके मन में जितने भी सवाल है उन सभी सवालों के आंसर देंगे तो सबसे पहले हम आपको एक छोटी सी परिभाषा देकर समझाते हैं कि क्रिप्टोकरेंसी क्या है। 

एक वक्त था जब दुनिया में ऐसी कोई भी मुद्रा करेंसी नहीं थी हम सिर्फ वस्तुओं के बदले वस्तुओं का ही लेनदेन करते थे लेकिन उसके बाद नोट और सिक्के हमारे अस्तित्व में आए फिर हम ले दिन का तरीका पूरी तरह से बदल दिए आज यही नोट और सिक्कों की तरह है हमारी एक मुख करेंसी हो गई है। 

लेकिन इसके अलावा भी एक करेंसी है जो पूरी तरह डिजिटल है जिसे हम क्रिप्टो करेंसी के नाम से जानते हैं लेकिन सवाल यह है कि यह क्रिप्टोकरंसी आखिर है क्या और यह किस तरीके से काम करती है। और साथ ही साथ इसकी क्या क्या फायदे हैं और जिसकी फायदे होते हैं उसके नुकसान भी होते हैं तो इसके नुकसान भी क्या है तो आइए हम विस्तार में सभी जानकारियों को पढ़ते हैं। 

Cryptocurrency के बारे में आपने आज तक बहुत कुछ पढ़ा होगा सुना होगा और देखा होगा लेकिन दोस्तों आज हम आपको उन सभी जानकारी को आप तक पहुंचाने की कोशिश करेंगे और आपके सारे डाउट क्लियर कर देंगे जैसे कि क्रिप्टो करेंसी भारत में अवैध तो नहीं है तो आइए बिना किसी देरी के आज के विषय पर बात करते हैं। 

cryptocurrency-kya-hai

Cryptocurrency (क्रिप्टोकरेंसी)

दोस्तो अगर देखा जाए तो आज हर देश के पास अपनी कोई न कोई करेंसी मुद्रा है जैसा कि भारत के पास रुपया है और अमेरिका के पास डॉलर है सऊदी अरब के पास रियाल है इसी तरह उन सभी तमाम बाकी देशों के पास अपनी अपनी कोई ना कोई करेंसी है लेकिन सवाल यह है कि करेंसी क्या होती  है। 

तो इसका जवाब है कि कोई एक ऐसी धनराशि जो किसी देश द्वारा मान्यता प्राप्त हो और वहां के लोग तमाम सभी लोगो के द्वारा उस धन के माध्यम के रूप में इस्तेमाल की जाती हो साथ ही जिसकी कोई वैल्यू हो उसे हम करेंसी कहते हैं अर्थात जिसके बदले में हमें कोई वस्तु या सेवा खरीदी जा सके वह करेंसी कहलाती है। 

जैसा कि ₹50 के नोट से फल खरीद सकते हैं इसलिए वह करेंसी है लेकिन ₹500 के पुराने नोट से हम कुछ नहीं खरीद सकते है क्योंकि ना तो उसी सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त है और ना ही उसकी कोई Value है इसलिए वह करेंसी नहीं कहलाए सकती है। 

आमतौर पर करेंसी को कागज या धातु के टुकड़ों या फिर सिक्कों पर Print किया जाता है इसलिए यह Physically Currency कहलाती है यानी कि इसे हम छू सकते हैं और इसे हम अपने पर्स  या फिर अन्य किसी जगह पर रख सकते हैं और इस करेंसी से हम घूम सकते हैं। 

किसी वस्तु खरीद सकते हैं अपनी जरूरत की चीजों को दुकान आदि जगह में जाकर हम इस करेंसी को देखकर अपनी जरूरत के सामान को खरीद सकते हैं लेकिन इस Cryptocurrency के साथ ऐसा संभव नहीं है। 

क्रिप्टोकरेंसी क्या है (What is Cryptocurrency in Hindi )

Cryptocurrency दो शब्दों से मिलकर बना शब्द है Crypto जोकि यह एक लैटिन भाषा का शब्द है जो Cryptography से बना है और जिसका मतलब होता है छुपा हुआ/हुई. जबकि Currency भी लैटिन के Currentia से आया है जो की रुपए या पैसे के लिए इस्तेमाल होता है। 

तो आखिर समझा जाए कि क्रिप्टोकरंसी का मतलब हुआ छुपा हुआ पैसा या गुप्त पैसा या फिर इसे कह सकते हैं आप डिजिटल रुपया। आमतौर पर लोग क्रिप्टो करेंसी को एक तरह का डिजिटल करेंसी कहते हैं जिसे आप तो ना ही छू सकते हैं और ना ही रख सकते हैं। यानी यह एक ऐसी मुद्रा है जिसे हम डिजिटल रूप में यूज कर सकते हैं इसका उपयोग कर सकते हैं यह किसी सिक्के या फिर नोट की तरह नहीं यह पूरी तरह से ऑनलाइन के माध्यम से उपयोग में होती है। 

इसे आसान भाषा में हम ऐसा समझ सकते हैं कि इसे आप हर देश की अपनी मुद्रा करेंसी कह सकते हैं जैसा कि भारत के पास रुपया, अमेरिका के पास डॉलर, और सऊदी अरब के पास रियाल, इंग्लैंड के पास यूरो है हर देश के पास अपनी अपनी कोई न कोई करेंसी है। 

यानी एक ऐसी धन प्रणाली जो किसी देश द्वारा मान्यता प्राप्त हो वहां के लोग इसका इस्तेमाल किसी भी जरूरी चीजें को खरीदने या फिर इसे अपने योग उपयोग के लिए यूज करते हैं यानी जिसकी कोई वैल्यू हो उसे हम करेंसी ( Currency )कहते हैं।

क्रिप्टो करेंसी यह एक Digital currency है जिसे हर कोई जानता है और इसे Decentralized System द्वारा मैनेज किया जाता है इसमें जो भी लेन देन होता है उसे Digital Signature द्वारा verification किया जाता है। 

और Cryptography की मदद से उन सभी Transaction का Record रखा जाता है दूसरे शब्दों में क्रिप्टो करेंसी Blockchain Technology पर आधारित एक Virtual Cryptocurrency है जो Cryptography द्वारा सुरक्षित होती है और इसे कॉपी करना लगभग ही नामुमकिन होता है। 

वास्तव में ही दोस्तों क्रिप्टो करेंसी एक Peer- to – Peer Cash प्रणाली सिस्टम है जो कि computer के Algorithm पर बनी होती है यानी कि Physically इसका कोई अस्तित्व नहीं होता है यह सिर्फ डीजी स्ट के रूप में ऑनलाइन पर अंकित रहती है और इसकी सबसे बड़ी खास बात तो यह होती है कि यह पूरी तरह से Decentralized है। 

यानी कि इस पर किसी भी देश या सरकार का कोई भी नियंत्रण नहीं होता है इसलिए इसकी शुरुआत में इसे illegal यानी कि अवैध करार कर दिया गया था लेकिन बाद में Bitcoin की लोकप्रियता को देखते हुए कई देशों ने इसे Legal कर दिया है मतलब कानूनी कर दिया है लेकिन कई देशों अभी भी इसके खिलाफ है। 

क्रिप्टो करेंसी कैसे खरीदें और बेचे ( how to sell and buy cryptocurrency )

इस सवालों का जवाब भी अब आसान हो गया है क्योंकि बढ़ती हुई लोकप्रियता के चलते अब तो बाजार में ढेरों ऐसे कई क्रिप्टो एक्सचेंज platform launch हो गए हैं जिससे हम क्रिप्टो करेंसी को बहुत ही आसानी से खरीद और बेचे सकते हैं। 

जिसमें से कई पॉपुलर प्लेटफार्म में WazirX, Zebpay, Coinswitch Kuber, CoinDCX GO के नाम है इन्वेस्टर coinbase और binance जैसे इंटरनेशनल प्लेटफार्म से Bitcoin, Dogecoin और Ethereum जैसी दूसरी क्रिप्टोकरंसी भी खरीद सकते हैं। 

और तो और इससे प्लेटफार्म में और इस क्रिप्टोकरंसी की सबसे खास बात तो यह है कि खरीदारी के लिए यह पे जितने भी सभी प्लेटफार्म है सभी के सभी चौबीसों घंटे खुले रहते हैं क्रिप्टोकरंसी को खरीदने और बेचने की प्रक्रिया काफी आसान है आपको केवल इन प्लेटफार्म पर साइन अप करना होगा इसके बाद अपना जो भी KYC प्रोसेस को पूरा कर अपने वॉलेट में मनी को ऐड ( Fund Add ) करना होगा इसके बाद अब खरीदारी कर पाएंगे। 

क्रिप्टोकरेंसी के प्रकार (Types Of Cryptocurrencies)

दोस्तों अगर देखा जाए तो Cryptocurrencies बहुत सारे हैं और जब क्रिप्टो करेंसी का नाम सुनते हैं तो दिमाग में एक ही नाम आता है बिटकॉइन लेकिन बिटकॉइन ही इस दुनिया की अकेली Cryptocurrency नहीं है इसके अलावा भी हजारों कई Cryptocurrencies है जिसके बारे में ज्यादातर लोगों को बिल्कुल ही नहीं पता है खैर कोई बात नहीं आइए जानते हैं ऐसी कुछ Most Popular Cryptocurrencies के बारे में जिन्हें आप इस्तेमाल कर सकते हैं। 

1.  Bitcoin (BTC)

अगर कोई भी क्रिप्टोकरेंसीज से रिलेटेड बात करता है और बिटकॉइन की बात ना हो तो ऐसा बिल्कुल ही संभव नहीं है क्योंकि बिटकॉइन दुनिया की सबसे पहली ऐसी क्रिप्टोकरंसी है जो इतनी सफल हुई है इसे 2009 में संतोषी नाकामोतो ने बनाया था हालांकि यह एक डिजिटल करेंसी को लेकर पहले भी कई कोशिशें हुई है। 

लेकिन सफल नहीं हो पाए यहां तक कि अगर देखा जाए कि हम सभी कुछ समय पहले जब बिटकॉइन नया-नया आया था तो इसे कोई जानता भी नहीं था शुरुआती समय में इसे काफी संघर्ष करना पड़ा लेकिन आज यह दुनिया की सबसे महंगी डिजिटल करेंसी में से एक है और इस वक्त बिटकॉइन प्राइस आसमान छू रहा है। 

और यह एक डे सेंट्रलाइज्ड करेंसी है जिसका मतलब आप सभी को पता ही होगा कि इस पर गवर्नमेंट या फिर कोई भी इंस्टिट्यूशन का कोई भी हाथ नहीं होता है जिस प्रकार से आप सभी को पता है की बिटकॉइन का मूल्य काफी बढ़ गया है जो कि अब तक लगभग 13 Lakh के करीब है एक वाइन का मूल्य आप आने वाले वर्तमान के अंदाजा लगा सकते हैं की बिटकॉइन का भविष्य कैसा होगा।

2.  Ethereum (ETH)

बिटकॉइन के जैसे ही एथेरियम भी ऐसे कहा जा सकता है कि यह भी एक डिसेंट्रलाइज ओपनसोर्स ब्लॉकचेन है जो कॉइन मार्केट कैप के हिसाब से दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी क्रिप्टोकरंसी में से एक है इसे 2015 में लॉन्च किया गया था इसके फाउंडर का नाम Vitalik Buterin हैं इसके क्रिप्टोकरंसी टोकन को इधर के नाम से भी जाना जाता है। 

यह प्लेटफार्म यूजर्स को डिजिटल टोकन बनाने में सहायता करता है जिसकी मदद से इसे करंसी के तौर पर उपयोग में लाया जाता है हाल ही में एक Hard Fork के होने से एथेरियम दो हिस्सों में अलग हो गया है इटालियन और इटालियन क्लासिक बिटकॉइन के बाद यह दुनिया की दूसरी सबसे प्रसिद्ध क्रिप्टो करेंसी है। 

3.  Litecoin (LTC)

लाइट कॉइन भी decentralized peer-to-peer cryptocurrency है जो कि एक ओपन सोर्स क्रिप्टोग्राफीकल प्लेटफार्म पर आधारित होता है इसकी शुरुआत अक्टूबर के 2011 में हुई थी लाइटकॉइन अपने Proof Of Work Algorithm में SHA-256 (Secure Hash Algorithm) की बजाय स्क्रिप्ट का प्रयोग करता है

इस कॉइन को बनाने के पीछे बिटकॉइन का सर्वश्रेष्ठ हाथ है और इसकी बहुत सारी features Bitcoin से मिलती जुलती है Litecoin की block generation की time Bitcoin के मुकाबले अगर इसे आसान भाषा में समझा जाए की बिटकॉइन की तुलना में इसका लेनदेन 4 गुना तेजी से होता है। 

4.  Dogecoin (Doge)

Dogecoin को बनाने के पीछे एक काफी रोमांचक कहानी है इसे बिटकॉइन को मजाक करने के लिए कुत्ते से उसकी तुलना की गई है जो आगे चलकर एक क्रिप्टो करेंसी का बहुत ही बड़ा रूप ले लिया है इसके फाउंडर का नाम Billy Markus है इसमें भी स्क्रिप्ट एल्गोरिथ्म का उपयोग किया जाता है। इसमें भी माइनिंग दूसरे करेंसी के मुकाबले बहुत ही जल्दी होती है। 

5.  Tether (USDT)

Tether की शुरुआत जुलाई 2014 में रियल का कॉइन के नाम से हुई थी लेकिन 20 नवंबर 2014 को पुनः इसका नाम बदलकर Tether कर दिया गया था तब से यह Tether के नाम से प्रसिद्ध है  इसे स्टेबल कॉइन भी कहा जाता है क्योंकि इसे हमेशा $1 के मूल्य के लिए डिजाइन किया गया था। 

यह बिटकॉइन की ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करता है स्थिर मुद्रा अमेरिकी डॉलर और यूरो की उनकी कई अस्थिरता को कम करती है और क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने वाले लोगों के लिए सबसे लोकप्रिय विकल्प में से एक है। 

6.  Binance Coin (BNB)

ये एक Decentralized क्रिप्टो कॉइन है जो एथेरियम ब्लाकचैन के ऊपर बना हुआ है इसके एथेरियम ब्लाकचैन के ऊपर बने होने के कारण यह एक ERC-20 टोकन है इसको इनको Binance क्रिप्टो एक्सचेंज द्वारा लांच किया गया है। 

और इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल भी बाइनेंस की क्रिप्टोकरंसी और एक्सचेंज के ऊपर ही होता है बाइनेंस दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज है यह दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज तब मानी गई जब 2018 में इसके ऊपर 1.2 मिलियन ट्रांजैक्शन प्रति सेकंड हुई। 

बाइनेंस कॉइन को जुलाई 2017 में बाइनेंस क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज द्वारा लांच किया गया था यह एक ICO कॉइन है ICO की फुल फॉर्म है Initial Coin Offering इसका मतलब होता है कि जब कोई कॉइन शुरुआत मेल लॉन्च किया जाता है तो उसको कुछ लोगों के बीच पहले से ही बांट दिया जाता है। 

Binance coin को निम्नलिखित लोगों के बीच बांटा गया था।

  • डेवलपर्स को 40% कॉइन दिए गए थे।
  • इन्वेस्टर को 10% कॉइन दिए गए थे।
  • 50% coin बेचे गए थे।

यह क्रिप्टोकरंसी ने 2017 में अपनी कीमत से एक लंबा सफर तय किया है जो कि सिर्फ 0.10 डॉलर था और अब तक यह लगभग 5200% तक बढ़ गया है। 

7.  Solana (SOL) 

Solana भी एक Open Source ब्लॉकचेन प्लेटफॉर्म है जिसको साल 2017 में Anatoly Yakovenko ने खोजा था सोलाना बाकी ब्लॉकचेन प्लेटफार्म की तुलना में काफी तेजी से काम करता है Solana के ऊपर लेनदेन से लेकर आई dApps को बनाया जाता है सोलाना के नेटवर्क को इस्तेमाल करने के लिए सोलाना कॉइन (SOL) का इस्तेमाल किया जाता है। 

Solana सबसे तेजी से काम करने वाले ब्लॉकचेन में से एक हैं जहां पर Ethereum केवल 15 ट्रांजैक्शन लेन-देन हर सेकंड में कर पाता है वही सोलाना 50000 लेनदेन हर सेकंड में कर पाता है और 400 मिली सेकंड यानी 0.4 सेकंड में 1 ब्लॉक को Mine कर लेता है जो कि सचमुच काफी ज्यादा तेजी से काम करता है। 

इस Transaction को पढ़ाकर 7 लाख Transaction/Second तक किया जा सकता है Solana को Ethereum Killer भी कहा जाता है क्योंकि सुनाना की तुलना में इस एरिया में काफी कम ट्रांजैक्शन कर पाता है। 

8.  Ripple (XRP)

Ripple 2012 में Release हुआ और ये Distribute Open Source Protocol के उपर based है Ripple एक Real Time Gross Settlement System (RTGS) है जो कि अपनी खुद की क्रिप्टोकरंसी चलाता है जिस की Ripples (XRP) भी कहा जाता है। यह बहुत ही ज्यादा और Famous क्रिप्टोकरंसी में से एक है। 

 और जिसकी Overall Market कैप लगभग $10 बिलियन है इसके Officials के अनुसार Rippel यूजर को Secure Stand and Nearly Free Global Financial Transaction किसी भी Size के करने के लिए प्रदान करती है और जिस में कोई भी Chargebacks नहीं लगाया जाता है। 

9.  Polygon

Polygon को हिन्दी में बहुभुज कहते हैं यह एक समतल सतह पर बनी ज्यामितीय आकृतियों का सामान्य नाम है बहुभुज कई सरल रेखाओं से बंद होता है और हम इन्हीं सरल रेखाओं को बहुभुज की भुजा कहते हैं जहां पर दो भुजाएं मिलती है और वह कोण कहलाती है। बहुभुज अंग्रेजी शब्द में पोलिगोन का हिंदी रूपांतरण रूप है। 

अंग्रेजी में पोलिगोन शब्द ग्रीक भाषा के दो शब्दों से मिलकर बना है इसमें पहला शब्द पोली यानी बहुत और गुनिया यानी कोण इस तरह है पोलिगोन का अर्थ बहूकोण है इसी तरह बहुभुज संस्कृत के दो शब्द के मेल से बनाया गया है जिसमें बहू यानी अनेक और भुज यानी भुजा अर्थ देता है हिंदी में अंग्रेजी के कोण की जगह भुजा को स्वीकार किया गया है और इस तरह बहुभुज का जन्म हुआ ।

अगर देखा जाए तो इस साल की संभावना काफी अच्छी मानी जाती है और विशेषज्ञों का यह कहना है कि इसका सबसे ज्यादा श्रेया एथेरियम को जाता है क्रिप्टो पूरी तरह से ETH 2.0 संस्करण में संक्रमण के लिए पूरी तरह से तैयार है यह खरीदने और रखने का एक अच्छा विकल्प हो सकता है । 

CryptoCurrency के फायदे 

दोस्तों अगर जब क्रिप्टोकरेंसी के इस्तेमाल की बातचीत होती हैं तो मन में यह ख्याल और सवाल जरूर उठता है कि क्यों? आखिर क्यों इस्तेमाल करें क्रिप्टो करेंसी Why Use Cryptocurrency आखिर इसके क्या क्या फायदे हैं जिसकी वजह से मैं इसका उपयोग कर सकता हु तो मैं आपको बताना चाहूंगा कि क्रिप्टोकरंसी के ऐसे कई सारे फायदे हैं जैसा कि :-

  • क्रिप्टो करेंसी एक डिजिटल करेंसी है इसमें धोखाधड़ी की गुंजाइश बहुत ही कम है। 
  • क्रिप्टो करेंसी को खरीदना बेचना और इसमें Invest करना बहुत ही सरल और आसान है क्योंकि इसके लिए कई सारे Digital Wallets उपलब्ध है। 
  • Cryptocurrency के लिए किसी भी Bank की आवश्यकता नहीं होती है। 
  • Cryptocurrency Investment के लिए एक बहुत ही अच्छा विकल्प माना जाता है क्योंकि इसकी कीमतों में तेजी से उछाल आता है। 
  • Cryptocurrency को किसी भी राज्य अथवा सरकार के द्वारा नियंत्रित नहीं किया जाता है। 
  • Cryptocurrency एक Secure Currency है क्योंकि इसमें अलग-अलग प्रकार के Cryptography Algorithm का इस्तेमाल किया जाता है। 
  • इसमें Transaction Fees भी बहुत कम है अगर हम दूसरे Payment Options की बात करें तब।

Cryptocurrency के नुकसान 

अगर देखा जाए तो हर चीज के दो पहलू जरूर होते हैं अगर कुछ के फायदे होते हैं तो कुछ के नुकसान भी जरूर होते हैं ठीक यही बात क्रिप्टोकरंसी पर भी लागू होती है यानी कि क्रिप्टोकरंसी के भी कुछ फायदे हैं तो उसके नुकसान भी हैं तो आइए जानते हैं Cryptocurrency के नुकसान के बारे में :-

  • Cryptocurrency का सबसे बड़ा नुकसान तो यह है कि इस पर किसी भी Athority का नियंत्रण नहीं है यानी कि इसकी कीमतों को कोई भी कंट्रोल नहीं कर सकता इसलिए इसकी कीमतें का अंदाजा हम नहीं लगा सकते कि यह कब बढ़ सकती है कि कब घट सकती है। 
  • दूसरा नुकसान या है कि यह एक Digital Currency है इसलिए इसे हैक किया जा सकता है और Ethereum के साथ ऐसा हो भी चुका है। 
  • तीसरा सबसे बड़ा नुकसान इसका यह है कि Illegal Activities में इस्तेमाल । यानी कि क्रिप्टो करेंसी को Illegal Weapons, Drugs और चोरी को खरीदने में किया जा सकता है। 
  • इसके अलावा क्रिप्टोकरंसी का कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है यानी कि इसके नोट और सिक्के नहीं होते हैं। 
  • Cryptocurrency में एक बार transaction पूर्ण हो जाने पर उसे रद्द कर पाना असंभव होता है क्योंकि इसमें वैसा कोई options ही available नहीं होता है। 
  • अगर आपका wallet के ID खो जाती है तब वह हमेशा के लिए खो जाती है क्योंकि इसे आप दोबारा प्राप्त नहीं कर सकते ऐसे में आपके जो भी पैसे आपके wallet में होते हैं वह सदा के लिए ही खो जाते हैं। 

Leave a Comment