2022 Election Latest News – Who is the new President of India

India President Election 2022 Latest News : भारत ने में 18 जुलाई को जो राष्ट्रपति का चुनाव हुआ था देश में राष्ट्रपति का चुनाव सीधे जनता नहीं किया करती है बल्कि जनता द्वारा जो चुने गए प्रतिनिधि इस चुनाव में भाग लिया करते हैं जैसा कि 21 जुलाई को जो भी वोटिंग हुई है ।

उन सभी के परिणाम को घोषित किया जाएगा और उसके बाद 25 जुलाई 2022 को एक नए राष्ट्रपति शपथ लेंगे और भारत में 25 जुलाई को ही राष्ट्रपति शपथ क्यों लिया जाता है द्रोपति मुर्मू और यशवंत सिंह के बीच हो रहे राष्ट्रपति चुनाव के वोटिंग में कौन सर्वश्रेष्ठ होगा किसका पलड़ा भारी होगा आइए विस्तार में जानते हैं

2022-Election-Latest-News-Who-is-the-new-President-of-India

Table of Contents

India President election 2022 मे विपक्षी उम्मीदवार किसको चुना गया है राष्ट्रपति चुनाव के लिए

18 July 2022 को को देश को एक नया मुखिया देने के लिए इलेक्शन कराया गया है जिसका परिणाम 21 जुलाई 2022 को घोषित किया जाएगा विपक्ष की ओर से भी सरकार की ओर से भी उम्मीदवार के नाम की घोषणा कर दी गई है ।

विपक्ष की ओर से यशवंत सिन्हा और सरकार की तरफ से द्रोपति मुर्मू को मी द्वार उम्मीदवार बनाया गया है देश के राष्ट्रपति चुनाव के लिए इन दोनों को चुना गया है आइए देखते हैं किसका पलड़ा भारी है कौन जीत सकता है राष्ट्रपति चुनाव इंडिया ।

Who is the new President of India in 2022

जैसा की भारत में 15वें राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतदान केंद्र शाम 5:00 बजे बंद हो गया था वोटिंग के लिए कुल 18 से निर्वाचित संसद और विधायकों ने इसमें हिस्सा लिया था चुनाव में एनडीए की ओर से उम्मीदवार द्रोपति मुर्मू की जीत और इसके साथ ही देश के शीर्ष संवैधानिक पद पर पहली बार आदिवासी महिला की ताजपोशी लगभग तय है ।

जहां तक सभी लोगों का कहना है कि द्रोपति मुर्मू का पलड़ा भारी लग रहा है और द्रोपती मुरमुर मुरमुर जितने के काफी करीब है और इन्हीं को नया राष्ट्रपति चुना जाएगा इंडिया न्यू प्रेसिडेंट द्रौपदी मुर्मू को घोषित किया जाएगा 27 दलों के समर्थन के साथ द्रोपति मुर्मू का पलड़ा भारी है नतीजे का ऐलान 21 जुलाई को घोषित किया जाएगा। आइए और भी कुछ जानकारी के बारे में जानते हैं

President Election 2022 Latest News : कुछ महत्वपूर्ण बातें

राष्ट्रपति चुनाव के लिए वोटिंग जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और सीएम केजरीवाल समेत तमाम दिग्गजों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है. द्रौपदी मुर्मू एनडीए से राष्ट्रपति पद के लिए मैदान में हैं। विपक्ष ने यशवंत सिन्हा को उतारा है.

देश के नए राष्ट्रपति के चुनाव के लिए वोटिंग की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. पीएम नरेंद्र मोदी, कांग्रेस नेता सोनिया गांधी और राहुल गांधी समेत देश भर के सभी विधायकों और सांसदों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. देश के 4800 सांसदों और विधायकों को अपने मताधिकार का प्रयोग करना था।

कुल मतदान प्रतिशत 99.18 प्रतिशत रहा। एनडीए की Droupadi Murmu के सामने विपक्ष की ओर से Yashwant Sinha मैदान में हैं. राष्ट्रपति चुनाव में वोटिंग के बीच क्रॉस वोटिंग के मामले भी सामने आए। तृणमूल कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भाजपा नेताओं ने क्रॉस वोटिंग की है। इसके अलावा कांग्रेस, सपा और राकांपा की ओर से भी क्रॉस वोटिंग की खबरें आई हैं।

देश के राष्ट्रपति का चुनाव कौन करता है?

भारत में राष्ट्रपति के चुनाव की प्रक्रिया का उल्लेख संविधान के अनुच्छेद 54 में किया गया है। राष्ट्रपति के चुनाव के लिए एक इलेक्टोरल कॉलेज का गठन किया जाता है जिसमें संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित सदस्य और राज्यों की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्य मतदान करते हैं।

इसलिए इसे अप्रत्यक्ष चुनाव भी कहा जाता है। इलेक्टोरल कॉलेज में संसद के 776 सदस्य और विधान सभा के 4,809 सदस्य हैं। कॉलेज को कुल 10,86,431 वोट मिले। हर वोट की एक कीमत होती है।

संसद के प्रत्येक सदस्य का मत मूल्य 700 है। यह मूल्य राज्य की जनसंख्या के अनुसार निर्धारित किया जाता है। नामांकन के बाद चुनाव प्रक्रिया में शामिल सांसदों और विधायकों को मतदान के लिए मतपत्र दिए जाते हैं।

मतदान कैसे होता है?

राष्ट्रपति के चुनाव में एकल संक्रमणीय मत का प्रयोग किया जाता है। मतदाता केवल एक वोट डालता है, लेकिन वह सभी उम्मीदवारों के बीच अपनी पसंद का फैसला करता है, यानी वह बैलेट पेपर पर बताता है ।

कि कौन उसकी पहली पसंद है और कौन दूसरा, या तीसरा। बैलेट पेपर पर चुनाव चिन्ह नहीं होता है। जबकि पेपर पर दो कॉलम होते हैं, पहले कॉलम में उम्मीदवार का नाम लिखा होता है और दूसरे कॉलम में वरीयता क्रम लिखा होता है।

राष्ट्रपति कौन बन सकता है?

भारत के संविधान का अनुच्छेद 58 राष्ट्रपति के चुनाव में शामिल किए जाने वाले उम्मीदवारों की योग्यता के बारे में जानकारी प्रदान करता है। योग्यता के अनुसार उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए ।

और न्यूनतम आयु 35 वर्ष होनी चाहिए। इसके साथ ही राष्ट्रपति के चुनाव में उम्मीदवार के लिए यह आवश्यक है कि वह किसी लाभ के पद पर न हो, अन्यथा उसे अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा।

जीतने के लिए चाहिए इतने वोट

राष्ट्रपति चुनाव में सबसे अधिक वोट प्राप्त करने वाले उम्मीदवार को विजेता घोषित नहीं किया जाता है। बल्कि वह राष्ट्रपति बनते हैं जिन्हें सांसदों और विधायकों के कुल वोटों के आधे से ज्यादा वेटेज मिलता है।

यह चुनाव पहले से तय करता है कि जीतने के लिए कितने वोटों की जरूरत होगी। इस बार इलेक्टोरल कॉलेज के सदस्यों के वोटों का कुल वोट 10,98,882 है ।

यानी उम्मीदवार को जीतने के लिए 5,49,442 वोट हासिल करने होंगे. जो उम्मीदवार सबसे पहले इस संख्या में वोट प्राप्त करता है उसे राष्ट्रपति के रूप में चुना जाता है।

राष्ट्रपति पद की शपथ 25 जुलाई को ही क्यों होती है? ( Why the President took oath on 25 July )

सीधे शब्दों में कहें तो इसका कोई कारण नहीं है। छठी राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी और उसके बाद के सभी राष्ट्रपतियों ने अपना कार्यकाल पूरा कर लिया है। राष्ट्रपति का कार्यकाल पांच वर्ष का होता है।

इस तरह नीलम संजीव रेड्डी और उनके बाद अब तक 7 राष्ट्रपतियों यानी कुल 8 ने अपना कार्यकाल पूरा किया, इसलिए हर बार 24 जुलाई को उनका कार्यकाल समाप्त होने पर 25 जुलाई को नए राष्ट्रपति शपथ लेते हैं।

मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल भी 24 जुलाई को पूरा हो रहा है और इस बार द्रौपदी मुर्मू और यशवंत सिन्हा के बीच राष्ट्रपति चुनाव में जो भी जीतेगा वह 25 जुलाई को शपथ लेगा.

ये पार्टियां एनडीए उम्मीदवार के समर्थन में हैं

बीजेपी ने राष्ट्रपति चुनाव के लिए द्रौपदी मुर्मू को अपना उम्मीदवार बनाया है. मुर्मू के समर्थन में जदयू, हम, लोजपा, अकाली दल, बसपा, तेदेपा, वाईएसआरसीपी, बीजद, शिवसेना और झामुमो हैं।

महाराष्ट्र में सत्ता बदलने के बाद उद्धव ठाकरे को शिवसेना सांसदों की जिद के आगे झुकना पड़ा और उद्धव ने द्रौपदी मुर्मू को अपना समर्थन देने का ऐलान कर दिया. देश की पहली आदिवासी महिला का समर्थन करने या विपक्ष के साथ गठबंधन करने के लिए झामुमो भी धार्मिक संकट में फंस गया था।

बाद में झामुमो से यह स्पष्ट हो गया कि पार्टी राष्ट्रपति चुनाव में ही द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करेगी। कुल मिलाकर चुनाव में एनडीए प्रत्याशी को बड़ा फायदा हुआ है.

कितना मजबूत है विपक्षी उम्मीदवार यशवंत सिन्हा का दावा?

विपक्ष ने राष्ट्रपति चुनाव में यशवंत सिन्हा को उतारा है. लेकिन कुछ विपक्षी दलों का समर्थन नहीं मिलने के कारण उनकी स्थिति थोड़ी कमजोर नजर आ रही है।

मुख्य रूप से उनके समर्थन में कांग्रेस, सपा, राजद, राकांपा, टीएमसी, डीएमके, टीआरएस, आप और वामपंथी हैं। यशवंत सिन्हा के इस दावे के बारे में कहा जा सकता है कि उनकी जीत बड़ी उलटफेर साबित हो सकती है.

राष्ट्रपति का चुनाव कैसे होता है

देश में राष्ट्रपति चुनाव अन्य चुनावों की तुलना में थोड़े अलग और जटिल होते हैं। देश में राष्ट्रपति के चुनाव में प्रत्यक्ष जन भागीदारी नहीं होती है, इसके विपरीत जनता का प्रतिनिधित्व करने वाले लोग यानी सांसद और विधायक राष्ट्रपति के चुनाव में भाग लेते हैं।

राष्ट्रपति चुनाव में जनता की सीधी भागीदारी नहीं होती है, लेकिन जनता का प्रतिनिधित्व करने वाले लोग यानी सांसद और विधायक वोट देते हैं। इन सांसदों और विधायकों में से जो मनोनीत सांसद या विधायक हैं, वे मतदान नहीं कर सकते क्योंकि वे जनता द्वारा चुने गए सदन में सीधे नहीं आते हैं।

  • राष्ट्रपति का चुनाव इलेक्टोरल कॉलेज के माध्यम से होता है ।
  • लोकसभा-राज्य सभा में कुल 776 सदस्यों ने मतदान किया ।
  • राज्य विधानसभाओं के 4,809 विधायकों ने भी डाला वोट।
  • लोकसभा और राज्यसभा के वोटों का मूल्य समान होता है ।
  • विधायकों के वोटों का भार अलग-अलग होता है ।
  • राज्य की जनसंख्या के आधार पर वेटेज तय किया जाता है।

राष्ट्रपति का चुनाव इलेक्टोरल कॉलेज के माध्यम से होता है

राष्ट्रपति का चुनाव इलेक्टोरल कॉलेज के माध्यम से होता है। इसमें लोकसभा और राज्यसभा के 776 सदस्य और विधानसभाओं के 4,809 सदस्य होते हैं। इन सभी मतों के अलग-अलग मूल्य या महत्व हैं।

लोकसभा और राज्यसभा के वोटों का एक वेटेज होता है जबकि विधानसभा के सदस्यों का वेटेज अलग-अलग होता है। दोनों राज्यों के विधायकों का वेटेज भी अलग-अलग है. इसे आनुपातिक प्रतिनिधित्व प्रणाली कहा जाता है।

विधायकों के वोट का मूल्य

विधायकों का वेटेज राज्य की जनसंख्या के आधार पर तय किया जाता है। राज्य की जनसंख्या को निर्वाचित विधायकों की संख्या और फिर एक हजार से विभाजित किया जाता है।

इसके बाद जो अंक प्राप्त होता है वह उस राज्य के एक विधायक के वोट का वेटेज होता है। जब एक हजार से विभाजित किया जाता है, यदि शेष 500 से अधिक है, तो एक को वेज में जोड़ा जाता है।

सांसदों के वोट का मूल्य

सांसदों के वोटों का वोट अलग होता है। सबसे पहले सभी राज्यों की विधानसभाओं के निर्वाचित सदस्यों के मतों के महत्व को जोड़ा जाता है। अब, इस सामूहिक वेटेज को राज्यसभा और लोकसभा के निर्वाचित सदस्यों की कुल संख्या से विभाजित किया जाता है। इस प्रकार प्राप्त संख्या एक सांसद के वोट का भार है। यदि यह विभाजन शेषफल 0.5 से अधिक छोड़ता है, तो भार एक से बढ़ जाता है।

मतदान के लिए विशेष कलम

मतदान के दौरान सभी उम्मीदवारों के नाम बैलेट पेपर पर होते हैं और मतदाता को उम्मीदवार के नाम के आगे 1 या 2 अंकों के रूप में अपनी पसंद लिखनी होती है। इस नंबर को लिखने के लिए चुनाव आयोग एक विशेष पेन प्रदान करता है। यदि यह संख्या किसी अन्य पेन से लिखी जाती है तो वह वोट अमान्य हो जाता है।

कुल वेटेज के आधे से ज्यादा वोट हासिल करना जरूरी

राष्ट्रपति चुनाव से जुड़ी दिलचस्प बात यह है कि इस चुनाव में जिस उम्मीदवार को सबसे ज्यादा वोट मिलते हैं, उसे विजेता घोषित नहीं किया जाता है, बल्कि विजेता वह होता है, जिसे सांसदों और विधायकों के कुल वोटों के आधे से ज्यादा वोट मिलते हैं।

राष्ट्रपति चुनाव पहले से ही निर्धारित करता है कि जीतने के लिए कितने वोटों की आवश्यकता होगी। इस बार राष्ट्रपति चुनाव के लिए इलेक्टोरल कॉलेज के सदस्यों के मतों का कुल भार 10,98,882 है। तो उम्मीदवार को जीतने के लिए कुल 5,49,442 वोट हासिल करने होंगे। वेटेज वाले उम्मीदवार को राष्ट्रपति के रूप में चुना जाता है।

Leave a Comment